डा. बृजेश सती / मीडिया हाउस ब्यूरो

जोशीमठ / इलाहाबाद। गंगा, गौ और गौरी अभियान ने अब राज्य की सीमाओं के बाहर दस्तक दी है। भागवत कथा के माध्यम से ये अभियान आचार्य महामाया प्रसाद ने शुरू किया है। भागवत कथा के जरिये उन्होने लोगों को जागरूक करने का बीड़ा उठाया है।

मात्र बारहवीं की उम्र से भागवत कथा का रसपान कराने वाले भागीरथी पुत्र आचार्य महामाया प्रसाद का गंगा,गौ और गौरी अभियान उत्तराखंड की सीमा के बहार भी दस्तक देने लगा है। इसी क्रम मे इलाहाबाद स्थित त्रिवेणी संगम मे सफाई अभियान चलाया गया। भागीरथी पुत्र महामाया भगवत कथा का साथ ही लोगों को जीवन जीने की कला से भी अवगत कराते हैं। गंगा,गौ और गौरी को वो मानव जीवन का आधार बताते हैं।

उनका कहना है कि धरती पर जीवन तभी तक है, जब तक गंगा, गौ और गौरी का अस्तित्व है। जिस दिन ये धरती से विलुप्त हो जायंगे, उस दिन मानव का जीवन संभव नहीं होगा। इसलिए वो भागवत कथा के माध्यम से लोगो को जागरूक कर रहे हैं। उनके इस अभियान मे गंगा घाटी के प्रसिद्ध संत डॉ दुर्गेश भी सहयोग कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here